World Art Community

Please Wait...

In Conversation with Maa-A Subject to ponder

In Conversation with Maa-A Subject to ponder $583.33 $554.17 PRODUCT CODE: O18/1. SHIPPING & HANDLING: $33.33 DISCOUNT: 5% TIME TO DISPATCH: 2-4days AVAILABLE ITEMS: 1 DELIVERY METHOD: In-person

IN STOCK

Orientation

Width

ADD TO CART

Material : Oil on canvas
Dimension : 16"×20"
In Conversation with Maa”A Subject to Ponder” It doesn't matter whether I am sad or happy, What matters is your silence It doesn't matter whether I am pure or a sinner, What matters is how equally you treat every soul It doesn't matter how rich or poor I am What matters is how unconditional your blessing is It doesn't matter how literate or stupid I am What matters is who educates me It doesn't matter how right or wrong things are What matters is even a leaf can't move without your assent It doesn't matter how much real history is What matters is how it can be used for the betterment of humanity You may pardon me or take away my life But I will worship you in my own way "माँ से मेरी वार्ता- चिंता का विषय" मैं खुश हुँ या नाराज, ये मायने नहीं रखता। तु खामोश है,ये चिंता का विषय है। मैं पापी हुँ या पुण्यकर्ता,ये मायने नहीं रखता। तेरी दृष्टि एक समान है,कि नहीं ये चिंता का विषय है। मैं अमीर हूँ या गरीब ,ये मायने नहीं रखता। तु बिना चढावे के कल्याण करती हो या नहीं,ये चिंता का विषय है। मैं ग्यानि हुँ या मुरख, ये मायने नहीं रखता। तेरा पाठ पढाने वाला कौन है?ये चिंता का विषय है। क्या सही है,क्या गलत? ये मायने नहीं रखता। तेरी मर्जी के बिना एक पत्ता भी नहीं हिल सकता,ये चिंता का विषय है। इतिहास सही है या गलत,ये मायने नहीं रखता। मानवता के हित में इसे संशोधित किया जा सकता है,कि नहीं,ये घोर चिंता का विषय है। माँ, मुझे क्षमा कर या प्राण ले ले। मैं तेरी अराधना अपने तरिके से ही करूँगा। -पंकज की डायरी का एक अंश

Country of Origin - India

ABOUT Visual Artist- PANKAJ VERMA

Shop Logo

	 								Here one can buy my own paintings or art works.
		 								Read More